Skip to main content

अवार्ड के भूखे !

कपिल शर्मा के शो में, रणबीर कपूर ने कहा, "करण जोहर अवार्ड के भूखे हैं "! ग़लत क्या है, सच तो सच है, अवार्ड किसको अच्छा नहीं लगता, चाहे आपका ज़मीर-ईमान मन ही मन धिक्कार रहा हो पर आप, एक भरी मुह थूक गले एके नीचे दफ़न कर इसे स्वीकार कर लेते हैं. कई लोग तो अवार्ड लेने ही नहीं जाते और कुछ को अवार्ड होम डिलीवर कर दिया जाता है. अभी हाल ही में, ट्रेजेडी किंग दिलीप साहब को राजनाथ सिंह जी ने पद्म विभूषण होम डिलीवर किया है. अगर आपमें काबिलियत और सलाहियत (दिलीप साहब का फ़ेवरिट जुमला) है तो अवार्ड तो झख मार कर आपके घर आएगा बड़े भाई. क्या आपको पता है, झख का अर्थ ब्रज भासा में मछली होता है?

लिंकेडीन पर अवार्ड के त्यौहार चलता रहता है.  एक दिन में, मुआवज़े की तरह अवार्ड हज़ारों लोगों को बाँट दिए जाते हैं.  HR के कई अवार्ड तो ड्राइवर और मैडम की बाई ले गयीं ! वैधानिक चेतावनी- आगे HR अवार्ड बंट रहा है, कहीं आप भी निज़ाम न हो जाएँ! इन अवार्ड्स की कीमत इतनी गिरा दी है इस गन्दी व्यवसायिकता नै, कि सर्टिफिकेट के पेपर की कीमत इस अवार्ड से ज्यादा है. शर्मनाक दौर में हैं हम सभी. 
अवार्ड भी एक बिज़नस है. कई कंपनियों का बिज़नस हे अवार्ड देना है. कई अवार्ड ऑस्कर और अकादमी अवार्ड की तरह हैं तो कई जो अगर आपको अवार्ड दे दें तो , कई सम्मानजनक लोगों पर घड़ों पानी पड़ जाता है. 
मानव संसाधन एक विभाग है, काफी कुछ मैटरनिटी वार्ड की तरह साउंड करता है. इसमें अवार्ड की होड़ लगी रहती है. फोटो अवसर! लिंकेडीन पर फोटो, फिर तो आप सेलिब्रिटी हो गए पर दुनियां है कि आपको कुछ समझती ही नहीं. आपको कोई देखता ही नहीं. "यह कौन है जिसने पू को मुड़ कर नहीं देखा"! डायलाग तो याद होगा?  
HR में अवार्ड के भूखे की पूरी फौज है, इन्हें आप अवार्ड दे दीजिये नहीं तो ये अपना मानसिक संतुलन खो देंगे! 

इस भूख से याद आया, क्यों हम एक अवार्ड्स की ecommerce marketplace कंपनी शुरू कर दें! यहाँ आप अवार्ड खरीद-बेच सकते हैं, ट्रेड कर सकते है, ऑक्शन कर सकते हैं, अपग्रेड कर सकते हैं. SHRM , World HRD कांफ्रेंस , GPTW , People Matters और हज़ारों HR की कम्पनियाँ अपने अवार्ड मार्किट कर सकेंगी. अवार्ड खरीदने वाले को सबसे ऊँची बोली लगाने वाले को उनकी मैगज़ीन में कवर फोटो, सेंटर स्प्रेड फीचर मिलेगा. अगर आप सनी लियोनी से अवार्ड लेना चाहते हैं तो आप उसके लिए भी बिड कर सकते हैं. 
सर्टिफिकेशन भी बेचते हैं ये, SPHR (सफर), GPHR (जफर), इत्यादि, ३०० डॉलर में , आप इसे खऱीद  सकते हैं. फिर आप टैगलाइन के लिए भी बिड कर सकते हैं, मनचाहा टैगलाइन, जैसे कई HR वाले Narcissist और psychopath लिखते हैं अपने लिंकेडीन प्रोफाइल में.. 
कुछ ऐसे होते हैं ये चुटकुले नुमा tagline "Identified as top 20 future HR leaders by Peoplematters 'Are You in the List?'"
स्वनामधन्य एक HR की पत्रिका नें ये सूरमा लिस्ट तैयार किया है. फॉर्म भर दीजिये, लम्बी फेंक मारिये और आप बन गए, Identified as top 20 future HR leaders by Peoplematters 'Are You in the List?'. 

मार्केटप्लेस का वक़्त गया है. यही मॉडल चल भी रहा है, हाउसिंग.कॉम , जिवामे.कॉम, फ्लिपकार्ट सभी मार्केटप्लेस बन कर ही कुछ कर पा रहे हैं. 

कृपया इस अवार्ड मार्केटप्लेस का नाम सुझाएँ और हर एक विजेता को मिलेगा एक कॉम्प्लिमेंटरी अवार्ड घर बैठे.

मंथली अवार्ड पाने के लिए , आप मंथली , इयरली इत्यादि सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं. 


Comments

Popular posts from this blog

राम की शक्ति पूजा!-LEADERSHIP LESSONS

सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ आधुनिक हिन्दी काव्य के प्रमुख स्तम्भ हैं। राम की शक्ति पूजा उनकी प्रमुख काव्य कृति है। निराला ने राम की शक्ति पूजा में पौराणिक कथानक लिखा है, परन्तु उसके माध्यम से अपने समकालीन समाज की संघर्ष की कहानी कही है। राम की शक्ति पूजा में एक ऐसे प्रसंग को अंकित किया गया है, जिसमें राम को अवतार न मानकर एक वीर पुरुष के रूप में देखा गया है,

राम  विजय पाने में तब तक समर्थ नहीं होते जब तक वे शक्ति की आराधना नहीं करते हैं।
"धिक् जीवन को जो पाता ही आया है विरोध,धिक् साधन जिसके लिए सदा ही किया शोध!" तप के अंतिम चरण में, विघ्न, असमर्थ कर देने वाले विघ्न. मन को उद्विग्न कर देने वाले विघ्न. षड़यंत्र , महा षड़यंत्र. परंतु राम को इसकी आदत थी, विरोध पाने की और उसके परे जाने की. शायद इसी कारण उन्हें "अवतार " कहते हैं. अवतार, अर्थात, वह, जिसने मानव जीवन के स्तर को cross कर लिया है. राम सोल्यूसन आर्किटेक्ट थे. पर सिर्फ सोल्यूसन आर्किटेक्ट साधन के बगैर कुछ भी नहीं कर सकता. साधन शक्ति के पास है. विजय उसकी है जिसके साथ शक्ति है.

जानकी! हाय उद्धार प्रिया का हो न सका, वह ए…

तो यह होता है इंटरव्यू (साक्षात्कार)?

तो यह होता है इंटरव्यू (साक्षात्कार)?

यह बीच का व्यू है! फिल्म की इंटरवल की तरह इंटर-व्यू ! पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त!
कर दिया आपने, प्रस्तावना, प्रतिवेदन और उल्लेख ! समझ गए आप! जी हाँ, मैं आपके रिज्यूमे या बायो डाटा की बात कर रहा हूँ.
व्यक्ति और व्यक्तितव एक ओर और दूसरी ओर उस संभावना जिसे हम जॉब कहते हैं से रु-बरु होने के मध्य का क्रम है इंटरव्यू! यहाँ आपका पहला चैलेंज है, यह "साक्षात्कर्ता "! आप पेश होते हैं, वह प्रकट होता है! प्रगट भयाला , दीन  दयाला! एक ब्लाइंड डेट की तरह , सिलसिला शुरू होता है, एक -दूसरे को इम्प्रेस करने का! सिर्फ अच्छी बातें, सुनहरे ख़याल , लम्बी फेंक , कुछ तुम लपेटो, कुछ हम लपेटें! सच, न तुम सुन सकोगे , न मुझमें इसकी ख़्वाहिश !
रहने दो, आज वक़्त नहीं है, मेरी शायरी का, अज़ीब दोस्तों की दास्तानों का, मेरी बेबसी, मजबूरियों का, उन कड़वे अहसासों का, सीने में दफन कुछ अरमानों का.
यह, इंटरव्यू है ज़नाब , आईये सिर्फ अच्छी बातें करें. क्या कहा, ज़मीर-ईमान ? वह तो दरवाज़े के बाहर छोड़ आया मैं, समेट लूँगा जाते वक़्त! उसे भी अब इस बेवफाई की आदत सी हो गयी है.
काश तुम प…