Skip to main content

Posts

Showing posts from January, 2017

गजोधर भैया ठीक ही कहते हैं, नौकरी जुगाड़ से मिलती है

गजोधर भाई कह रहे थे  ,नौकरी ढूंढने से नहीं, जुगाड़ से मिलती है. मेरे कुछ दोस्त काफी समय से नौकरी ढूढ़ रहे हैं, हर तरह की कसरत-आजमाईश, दुआ-दरगाह, किसी ने कोई कमी नहीं छोड़ रखी है. सीईओ से ले कर सीबीआई तक की पैरवी लगा रखी है, पर किश्मत है की अंगद की तरह  पैर जमा कर हिलने का नाम नहीं लेती. तंत्र, मंत्र, माला, रुद्राक्ष, ताबीज़ , यन्त्र , रत्न, धातु, बाबाजी की बूटी, सब आजमा लिया पर नौकरी नहीं मिल रही.  जैसे बैटरी की लाइफ होती है, किस्मत की भी लाइफ होती है. आपकी बैटरी duracell है तो फिर लंबी चलेगी.
गजोधर भैया ठीक ही कहते हैं, नौकरी जुगाड़ से  मिलती है. सेटिंग करने से मिलती है. साली यह तो डॉन  हो गई जिसको ११ मुल्कों की पुलिस ढूंढ रही है...  २००० का डॉट कॉम बस्ट, २००८ का ग्रेट डिप्रेशन कुछ लैंडमार्क हैं, जिस पर जॉब मार्किट की तश्वीर को बदलने का बड़ा कलंक लगा है. २००० का डॉट कॉम बस्ट डिजिटल के लिए एक समय से पहले आने का झटका था.  अच्छी  सोच पर शायद दुनिया इसके लिए अभी तैयार नहीं थी. २००८ ने अमेरिका के सब प्राइम क्राइसिस को सामने ला खड़ा किया, इनफ्लैटेड रियल एस्टेट, unsecured लोन्स, करप्शन की पराकाष्…

CHRO सिर्फ बिज़नस से! क्या कहते हैं आप?

हर कोई सच तो बोल नहीं सकता पर मृत्यु सैया पर का इंसान, फांसी के वक़्त का कैदी और कंपनी में अपनी अंतिम साँसें गिनता मानव संसाधन विभाग का पुराना अधिकारी सच बोलते पाए जाते हैं. दर्द जब हद से बढ़ जाए तो अफसाना बन जाता है और फिर राग दरबारी दिल से चीख की तरह निकलते हैं.
वह सच जो पति और पत्नी बुढापे के तलाक के वक़्त बोलते /कबूलते हैं, बच्चे अपनी केयर टेकर से बोलते हैं, दारु पीने वाला अपने दारूबाज दोस्त से पीते वक़्त बोलता है, सब सच हैं जो दिल से निकलते हैं.

LinkedIn पर कुछ लोग ऐसे सच बोलते दिखते हैं. मुझे हाल ही में पता चला कि , Laszlo Bock
(former SVP of People Operations and Senior Advisor at Google; author of "Work Rules!"​) ने गूगल छोड़ दी है. १० साल की लंबी करियर थी गूगल में इनकी. इनके लिंकेडीन पर लिखे सारे पोस्ट कमाल के हैं. आप पढ़ सकते हैं.
गूगल के काफी सारे प्रतिमान खड़े किये हैं, मानव संसाधन के क्षेत्र में भी अनेक नेक काम किये गए. सबसे अच्छी बात जो गूगल के रिक्रूटमेंट की मुझे लगी, वह है , हायरिंग मेनेजर का हायरिंग से बाहर रहना. अब आप पूछेंगे की क्या यह सभी पोसिशन्स के लिए होता ह…