Skip to main content

Posts

Showing posts from January, 2018

असर संस्थान अग्रसर है; रिपोर्ट कम असर!

ANNUAL STATUS OF EDUCATION REPORT 2017यह रिपोर्ट सही है पर जिस बियॉन्ड बेसिक्स की तलाश ग्रामीण इलाकों में की गयी है, वह शहरी विकास की कसौटी पर तय की जा सकती है. ग्रामीण  इलाकों में, युवक पढ़ भी गया तो भी सिर्फ २% सरकारी नौकरी पाते हैं , बाकी बेरोज़गार या फिर काम चलाऊ आधी-अधूरी मज़दूरी नुमां प्राइवेट नौकरी ! अगर तरीके से खेती कर लें, बकरी, भेकड, सूअर, मुर्गी, पाल लें तो ज़्यादा सम्मान से जियेंगे. उनकी मज़बूरियों को समझें।  आर्मी के भर्ती में, हज़ारों पढ़े लिखे रेलम पेल में पिस जाते हैं. १००० में से ५ को नौकरी मिलती है, क्या करेंगे पढ़ कर?  असर संस्थान अग्रसर है, प्रगति पथ पर! 2017 का असर रिपोर्ट 14 से 18 वर्ष के बच्चों पर आधारित है, जिन्होंने प्रारंभिक शिच्छा पूर्ण कर ली है. असर 2017 सर्वेक्षण में पढ़ने तथा गणित  करने की बुनियादी क्षमता से आगे,अर्थात बियॉन्ड बेसिक्स डोमेन शामिल हैं . इसमें चार डोमेन शामिल है– गतिविधि , क्षमता, जागरुकता और आकांछाएँ .The survey for the Annual Status of Education Report for rural India in 2017 was carried out in 28 districts spread across 24 statesASER stands for…