Skip to main content

इंटरनेट पर चमकीली दुकान!

इंटरनेट पर चमकीली दुकान. बेचते सेवा और सामान, पसंद ना आये तो रिटर्न पालिसी भी है. अब कोई न कहेगा, बिका  सामान वापस होगा बदला जाएगा. कॅश ऑन डिलीवरी है. माल देखो फिर पैसे दो

बदला क्या है? फेरी वाला तब भी घर पर आता था, अब भी आता है, सामान देता है, पैसे लेता है. देखा-देखी इंटरनेट पर, सामान ग्रहण घर पर. इंटरनेट ने बड़े द्वार खोले हैं सभी व्यापारियों के लिए, अब ग्राहक दूर-दूर से आता है. लोजिस्टिक्स है तो फिर लास्ट माईल डिलीवरी भी हैइस इंटरनेट ने किसी को भी व्यापारी बना दिया है. अब डिफेंस लैब का साइंटिस्ट इंटरनेट पर चाय पत्ती बेचता है. इन्वेस्टमेंट बैंकर टैक्सी चलाता है या चलाने को मज़बूर है. कबाड़ी वाला अब OLX और Quikr कहलाता है.
नए दुकानदार ! कपडे वाले, चश्मे वाले, भाड़ा गाडी वाले, जाँघिया -चोली वाले (ज़ीवामे) , डॉक्टर वाले, सारे तरह के धंधे ऑनलाइन हैं. इंटरनेट पर दुकान सज गयी है. वेंचर कैपिटलिस्ट, एंजेल फंडिंग वाले , सीड फंडिंग, सीरीज , बी , सी , ....तमाशा ज़ारी है.
कैंटीन टेबल के आइडियाज, वीकेंड के ड्रंक स्टेज आइडियाज, कोई भी आईडिया लाओ, स्टार्ट उप बनाओ, फंडिंग लाओ, जमूरे बहाल करो, धंधे पर लगा दो. फिर किसी ने कहा स्केल करो , नहीं तो सस्टेन नहीं कर पाओगे, कि रात में कोहड़ा रोपो , सुबह तड़के बाजार में बेच दो. वारेन बुफे ने कहा आप नौ महिलाओं को प्रेग्नेंट कर के एक महीने में बच्चा पैदा नहीं कर सकते! कुछ चीजें टाइम लेती हैं. पर लोग मानते कहाँ हैं, डॉलर की होलिका जलाओ, छा जाओ. फिर पता चला सिर्फ स्केल करने से नहीं चलेगा, revenue मॉडल चाहिए।  अरे यह तो फिर भी नहीं चला, फिर स्केल बैक करो, लोगों को बर्खास्त करो. घर भेजो! फिर जरूरत पड़ेगी बहाल कर लेंगे. हाउसिंग डॉट कॉम, ज़ोमतो, टाइनी आउल, हेल्प् चैट अनगिनत नाम हैं लिस्ट लम्बी होती रहेगीअगर फेल हो गए तो इकोसिस्टम तो जिम्मेवार बना दो.
एक दिन में बिज़नेस नहीं बनता, हिंदुस्तान लिवर (HUL) को भी पूरे भारत में पैठ बनाने में ५० साल से ज्यादा लगे
इंटरनेट नें और स्मार्ट फ़ोन ने बिज़नेस का स्वरुप ही बदल दिया है. लेकिन इनके फैलाओ को बाजार समझने की भूल कर बैठे हैं इंटरनेट दुकान वाले बनिए! सिर्फ टेक्नोलॉजी और ज़रूरतें ही व्यापार को स्थापित करने के लिए काफी नहीं है. सोच बदलते बदलते पीढ़ियां लग जाती हैं.
गूगल के फाउंडर लेर्री पेज "टूथब्रश टेस्ट" की बात करते हैं. उनका कहना है की गूगल किसी नयी कंपनी में निवेश करने के पहले यह "टूथब्रश टेस्ट" करती है, जिसका अर्थ है यह सवाल-"क्या इस कंपनी के प्रोडक्ट को लोग दिन में एक से दो बार इस्तेमाल करेंगे?" अगर उत्तर हाँ में है तो गूगल उस कंपनी में निवेश करती है अन्यथा नहीं!
चूहे -बिल्ली की दौड़ चल रही है. एक ही तरह के प्रोडक्ट या सर्विस पर काफी सारे स्टार्ट अप काम कर रही हैं. इस माहौल में जिसने अपना नाम बना लिया, वह जीत गया।  इसी जीत की चाह नें ही इन्हें इस दौड़ में लगा रखा है. मर्सिनरी तरीके से नियुक्तियां को रही हैं. दस गुने पैसे लगा कर नया ग्राहक पकड़ा जा रहा है. एक-दो साल के तजुर्बे वाले आईटी वाले २० से ३० लाख की तनख्वाह पा रहे हैं. समय अच्छा है पर यह कुछ लोगों की ही दुनिया मालूम पड़ती . बाकी के लोग उसी तरह चलते है  जैसे नेचर चलता है. २४ घंटे का दिन, मिहनत की कमाई  और अपनो के साथ सुकून की दो रोटी और कुछ मस्खरी.
इस चूहे बिल्ली की रेस में जिंदगी कुत्ते की हो गयी है . फिर किसी ने कहा , आई एम बिच , आई डू नॉट रन विथ रैट्स ! शायद इसे ही ऑडेसिटी कहते हैं.

चलने दो जैसे चलता है. चलने से ही मंज़िल मिलती है. किसी ने कहा है, "अगर आपके कपड़े गंदे नहीं हैं तो आप युद्ध में थे ही नहीं. फिर न आपकी जीत है न हार! 

मैं बस देख रहा हूँ कि ऊँट किस करवट बैठता है. 

शेर सुनिये।
उर्दू के ताल्लुक़ से यह भेद नहीं खुलतायह जश्न , यह हंगामा , खिदमत है के साजिश है.- शाहिर लुधियानवी


Comments

Popular posts from this blog

असर संस्थान अग्रसर है; रिपोर्ट कम असर!

ANNUAL STATUS OF EDUCATION REPORT 2017यह रिपोर्ट सही है पर जिस बियॉन्ड बेसिक्स की तलाश ग्रामीण इलाकों में की गयी है, वह शहरी विकास की कसौटी पर तय की जा सकती है. ग्रामीण  इलाकों में, युवक पढ़ भी गया तो भी सिर्फ २% सरकारी नौकरी पाते हैं , बाकी बेरोज़गार या फिर काम चलाऊ आधी-अधूरी मज़दूरी नुमां प्राइवेट नौकरी ! अगर तरीके से खेती कर लें, बकरी, भेकड, सूअर, मुर्गी, पाल लें तो ज़्यादा सम्मान से जियेंगे. उनकी मज़बूरियों को समझें।  आर्मी के भर्ती में, हज़ारों पढ़े लिखे रेलम पेल में पिस जाते हैं. १००० में से ५ को नौकरी मिलती है, क्या करेंगे पढ़ कर?  असर संस्थान अग्रसर है, प्रगति पथ पर! 2017 का असर रिपोर्ट 14 से 18 वर्ष के बच्चों पर आधारित है, जिन्होंने प्रारंभिक शिच्छा पूर्ण कर ली है. असर 2017 सर्वेक्षण में पढ़ने तथा गणित  करने की बुनियादी क्षमता से आगे,अर्थात बियॉन्ड बेसिक्स डोमेन शामिल हैं . इसमें चार डोमेन शामिल है– गतिविधि , क्षमता, जागरुकता और आकांछाएँ .The survey for the Annual Status of Education Report for rural India in 2017 was carried out in 28 districts spread across 24 statesASER stands for…

राम की शक्ति पूजा!-LEADERSHIP LESSONS

सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ आधुनिक हिन्दी काव्य के प्रमुख स्तम्भ हैं। राम की शक्ति पूजा उनकी प्रमुख काव्य कृति है। निराला ने राम की शक्ति पूजा में पौराणिक कथानक लिखा है, परन्तु उसके माध्यम से अपने समकालीन समाज की संघर्ष की कहानी कही है। राम की शक्ति पूजा में एक ऐसे प्रसंग को अंकित किया गया है, जिसमें राम को अवतार न मानकर एक वीर पुरुष के रूप में देखा गया है,

राम  विजय पाने में तब तक समर्थ नहीं होते जब तक वे शक्ति की आराधना नहीं करते हैं।
"धिक् जीवन को जो पाता ही आया है विरोध,धिक् साधन जिसके लिए सदा ही किया शोध!" तप के अंतिम चरण में, विघ्न, असमर्थ कर देने वाले विघ्न. मन को उद्विग्न कर देने वाले विघ्न. षड़यंत्र , महा षड़यंत्र. परंतु राम को इसकी आदत थी, विरोध पाने की और उसके परे जाने की. शायद इसी कारण उन्हें "अवतार " कहते हैं. अवतार, अर्थात, वह, जिसने मानव जीवन के स्तर को cross कर लिया है. राम सोल्यूसन आर्किटेक्ट थे. पर सिर्फ सोल्यूसन आर्किटेक्ट साधन के बगैर कुछ भी नहीं कर सकता. साधन शक्ति के पास है. विजय उसकी है जिसके साथ शक्ति है.

जानकी! हाय उद्धार प्रिया का हो न सका, वह ए…

HR का मुल्लानामा! मुगालते में मत रहिएगा!

भक्ति काल के कवियों के बारे में आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने कहा था, यह बैठे ठालों का रोज़गार है. HR में अगर कहीं एक्शन है तो वह रिक्रूटिंग में है. ट्रेनिंग भी कथा वाचन है. नया एमबीए मुल्ला , कुछ थके हारे , उबासियाँ लेते ट्रेनी गण , एक वीरान सा ट्रेनिंग रूम, जिसमे ५० लोगों के बैठने की व्यवस्था है, पर कोईं ५ लोग ही ट्रेनिंग के लिए पकडे जा सके! बाकी लोगों को काम था या फिर अंतिम छन कोई ज़रूरी काम का बहाना बना कर कट लिए! एक्सएलआरआई वाला ट्रेनर (आपका नया मुल्ला ) ट्रेनिंग करता है, ग्रुफी  निकालता है, और फिर  चंद  शब्दों के अपडेट के साथ लिंकडिन पर चिपका देता है. श्री सत्य नारायण की सप्तम अध्याय की समाप्ति अब शंखनाद से नहीं होती, होती है ग्रुफी से ! भाई साब , इस फार्मा कंपनी में, एम्प्लोयी की  मीडियन सैलरी ३ लाख के आस-पास है, और एग्जीक्यूटिव की सैलरी इससे ४०० गुने अधिक, जैसा की २०१३ की कम्पनीज एक्ट नियामित डेक्लरेशन से २०१५ के फाइलिंग से पता चलता है. समस्या ४०० गुने या ४००० होने से नहीं है, है तो इससे कि एम्प्लोयी की मीडियन सैलरी ३ लाख है, यही कि कंपनी की आधी आबादी ३ लाख से कम की सैलरी में पूरे स…