Skip to main content

जब कुँए में ही भांग पड़ी हो

हिंदी में  एक कहावत है; जब कुँए में ही भांग पड़ी हो ! भारतेंदु ने कहा था ; आवहु सब मिल रोवहु भाई , हा हा , भारत दुर्दशा देखि नहीं जाई! आज मुझे HR के बारे में यही कहने में कोई संकोच नहीं है.
किसी ने सही कहा है ; ";ज़िन्दगी लम्बी नहीं, बड़ी होनी चाहिए ! ". पद्म श्री चाहे आप चंदा कोच्चर को दें या फिर जे के सिन्हा को, बात तभी बनती है जब आप दूसरों की ज़िन्दगी बदल देते हैं!
आपने यह कहावत सुनी होगी; 'चार आने की मुर्गी, बारह आने का मसाला! ', या फिर यह तो वही हुआ कि ;'खाया पिया कुछ नहीं, गिलास तोड़ा , बारह आना. ' एक्सपायरी डेट पर कर चुकी बुड्ढी HR की महिलायेँ अब Catalyst Inc जैसी संस्थाओं से डाइवर्सिटी और इन्क्लूसन का अवार्ड लेने न्यू यार्क चली जाती हैं. माले मुफ्त दिले बेरहम।
लगभग २० साल पहले डेव उलरिच ने एक क़िताब  लिखी थी;
जब मोदी सरकार तय है तो फिर ७ बिलियन डॉलर का चुनाव कोई मतलब नहीं रखता, पर क्या करें, ४० चोरों को लगता है, अली बाबा से दो दो हाथ कर लें, तो हमने भी कहा, लड़ ले भाई! अगली बार नो चुनाव !

The HR Scorecard: Linking People, Strategy, and Performance! HR वालों ने भावनाओं को न समझते हुए, जुमले अपनी माँग में, चेस्ट नंबर की तरह सीने पर चिपका लिया; HR बिज़नेस पार्टनर , एम्प्लोयी चैंपियन, कैटेलिस्ट , चेंज एजेंट, इत्यादि! स्वनामधन्य मठाधीश कुकुरमुत्तों की तरह उग आये कंपनियों में. नाम बड़े और दर्शन छोटे! एक अमरीकी फार्मा कंपनी है; alcon ! यह novartis की कंपनी है. alcon को HR बिज़नेस पार्टनर चाहिए. लिंकेडीन पर alcon ने 

मिर्ज़ा ग़ालिब  का एक शेर अर्ज़ है: "अगर अपना कहा तुम, आप समझे तो क्या समझे मज़ा कहने का जब है, एक कहे और दूसरा समझे ज़बान ए मीर समझे और कलाम ए मिर्ज़ा समझे मगर इनका कहा यह आप समझें, या खुदा समझे"

यह जान लेना ज़रूरी है की किसी को लोकप्रिय क्यों होना है, उसके लोक्रपिया होने का क्या मतलब है और वो किनके लोकप्रिय होना चाहते हैं? 
दूसरा सवाल हम अपने आप से कर सकते हैं; क्या आप अभी लोकप्रिय नहीं  हैं? अगर आपको काम ही लोग पसंद करते हों, तो यह  जाँच करना अच्छा रहेगा, की किन कारणों से वे आपको पसंद करते हैं. क्या आपके लोकप्रिय होने के पीछे कपि उद्देश्य छिपा है? अगर हाँ तो क्या आप इसे ज़ाहिर करना चाहते हैं या नहीं? 
मेरा मानना है लोकप्रिय बनना आपके विचारों और व्यक्तित्व का लोगों से एका होने से है. बात आपकी संवेदना और लोगों की संवेदनाओं का सामंजस्य होने से है. आपकी वाणी भी  विचार और संवेदनाओं का सही अभिव्यक्ति करती हो तो बात बनती है. ध्यान रहे , आप संवाद करते हों न की सिर्फ प्रवचन. आपका मकसद लोगों को समझना भी हो न की सिर्फ समझाना या फिर उनका नेतृत्व करने मात्र को विवश होना. 
आपको ओरिजिनल होना होगा, न कि किसी की कॉपी ! लोकप्रिय होना कोई सफल कमाऊ फिल्म बनाना नहीं है, यह कमाई इसका आउटकम हो तो ठीक है. 
मेरी समझ में लोकप्रिय होने का कोई सेट फार्मूला नहीं है. यह एक लम्बी यात्रा है, जिसमे कई पड़ाव हैं, कई झटके भी हैं. घोर निराशा और अवसाद भी. अगर आप एक वर्ग के लोकप्रिय हैं, तो एक दूसरा वर्ग आपकी खिलाफत के लिया खड़ा हो जाएगा, आप तीक्ष्ण आरोप-आलोचना, प्रत्यारोप के दौर से भी गुज़रेंगे. अब संतुलन, शब्दों का, विचारों का, संवेदनाओं का  भी आप स्वाद चखेंगे. कुल मिलाकर आप पॉपुलर होंगे पर इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि यह सिर्फ सुहाना सफर है. 
दिल से आप अपने काम को करते रहिये, कोई PR एजेंसी रखने की ज़रूरत नहीं. आपके फैन आपके अपने अनुभवों से फॉलो करते रहेंगे. आप उन्हें निरंतर जोड़े रखें.  

Comments

Popular posts from this blog

अवार्ड के भूखे !

कपिलशर्माकेशोमें, रणबीरकपूरनेकहा, "करण जोहरअवार्डकेभूखेहैं "! ग़लतक्याहै, सच तो सचहै, अवार्डकिसकोअच्छानहींलगता, चाहेआपकाज़मीर-ईमानमनहीमनधिक्काररहाहोपरआप

राम की शक्ति पूजा!-LEADERSHIP LESSONS

सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ आधुनिक हिन्दी काव्य के प्रमुख स्तम्भ हैं। राम की शक्ति पूजा उनकी प्रमुख काव्य कृति है। निराला ने राम की शक्ति पूजा में पौराणिक कथानक लिखा है, परन्तु उसके माध्यम से अपने समकालीन समाज की संघर्ष की कहानी कही है। राम की शक्ति पूजा में एक ऐसे प्रसंग को अंकित किया गया है, जिसमें राम को अवतार न मानकर एक वीर पुरुष के रूप में देखा गया है,

राम  विजय पाने में तब तक समर्थ नहीं होते जब तक वे शक्ति की आराधना नहीं करते हैं।
"धिक् जीवन को जो पाता ही आया है विरोध,धिक् साधन जिसके लिए सदा ही किया शोध!" तप के अंतिम चरण में, विघ्न, असमर्थ कर देने वाले विघ्न. मन को उद्विग्न कर देने वाले विघ्न. षड़यंत्र , महा षड़यंत्र. परंतु राम को इसकी आदत थी, विरोध पाने की और उसके परे जाने की. शायद इसी कारण उन्हें "अवतार " कहते हैं. अवतार, अर्थात, वह, जिसने मानव जीवन के स्तर को cross कर लिया है. राम सोल्यूसन आर्किटेक्ट थे. पर सिर्फ सोल्यूसन आर्किटेक्ट साधन के बगैर कुछ भी नहीं कर सकता. साधन शक्ति के पास है. विजय उसकी है जिसके साथ शक्ति है.

जानकी! हाय उद्धार प्रिया का हो न सका, वह ए…

तो यह होता है इंटरव्यू (साक्षात्कार)?

तो यह होता है इंटरव्यू (साक्षात्कार)?

यह बीच का व्यू है! फिल्म की इंटरवल की तरह इंटर-व्यू ! पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त!
कर दिया आपने, प्रस्तावना, प्रतिवेदन और उल्लेख ! समझ गए आप! जी हाँ, मैं आपके रिज्यूमे या बायो डाटा की बात कर रहा हूँ.
व्यक्ति और व्यक्तितव एक ओर और दूसरी ओर उस संभावना जिसे हम जॉब कहते हैं से रु-बरु होने के मध्य का क्रम है इंटरव्यू! यहाँ आपका पहला चैलेंज है, यह "साक्षात्कर्ता "! आप पेश होते हैं, वह प्रकट होता है! प्रगट भयाला , दीन  दयाला! एक ब्लाइंड डेट की तरह , सिलसिला शुरू होता है, एक -दूसरे को इम्प्रेस करने का! सिर्फ अच्छी बातें, सुनहरे ख़याल , लम्बी फेंक , कुछ तुम लपेटो, कुछ हम लपेटें! सच, न तुम सुन सकोगे , न मुझमें इसकी ख़्वाहिश !
रहने दो, आज वक़्त नहीं है, मेरी शायरी का, अज़ीब दोस्तों की दास्तानों का, मेरी बेबसी, मजबूरियों का, उन कड़वे अहसासों का, सीने में दफन कुछ अरमानों का.
यह, इंटरव्यू है ज़नाब , आईये सिर्फ अच्छी बातें करें. क्या कहा, ज़मीर-ईमान ? वह तो दरवाज़े के बाहर छोड़ आया मैं, समेट लूँगा जाते वक़्त! उसे भी अब इस बेवफाई की आदत सी हो गयी है.
काश तुम प…