Skip to main content

खरबूजा, खरबूजे को देख कर रंग बदलता है. Leadership lessons learnt in trenches not classrooms!

 फिल्म रेड  एक जांबाज़ अफसर की कहानी है जो  अपना असर सब के मन मस्तिष्क पर छोड़ जाता है. कमाल  की बात तब होती है, जब, इनके साथी कर्मचारी जो वर्षों की गुलामी के बाद अपने अस्तित्वा को, अपनी ईमानदारी और निष्ठा को पा लेती है, अति गर्वित होकर, एक लीडर की वजह से , जिसने अपने और अपनों की जान की परवाह किये बगैर एक ऐतिहासिक  कहानी बना डाली, जिसपर आज ब्लॉक बस्टर  फिल्म बनी है.
रेड में एक लीडरशिप लेशन है जो संक्रामक है. इन्फेक्शस  जिसे अंग्रेजी में कहते हैं !
इस रेड ने  साधारण कर्मचारियों को  जीवन भर के लिए लीडर बना दिया. जबरदस्त परिवर्तन की कथा. 
मेरा मानना है कि : 
Leadership lessons are learnt in trenches not classrooms! What we learn in classrooms or over coffee with a high profile mentor or through talks by management experts, are not leadership things, they are just management tips. 

खरबूजा, खरबूजे को देख कर रंग बदलता है. मतलब क्या है? फिल्म रेड देख ली आपने? अगर  नहीं  तो देख लीजिये! मतलब समझ में तब आया जब, घूसख़ोर, और व्यवस्था से परेशान होकर जब, राजस्व /रेवेन्यू डिपार्टमेंट के मुलाज़िम जब पालतू से हो जाते हैं, तब आता है एक कड़क अफ़सर अजय देवगन , आईआरएस , लखनऊ में, ८१  के साल में! इन साहब का अबतक ५१ मर्तबा तबादला हो चुका है. तबादले का आर्डर आया और टेम्पो में सामान बांध कर नई जगह ज्वाइन करने पहुँच जाते हैं ये साहब . इनका नाम कोई पटनायक है. नाम में चाहे सिंघम वाला टशन न हो पर, ख़ालिश ईमानदारी तो पूरी दिखती है. खूबसूरत पत्नी हैं, बच्चे शायद नहीं है, दिखे भी नहीं. कोई नौकर-चाकरों का नज़ारा नहीं. सिर्फ एड ड्राइवर और महिंद्रा की जीप !
मुद्दे पर आते हैं; पहले दिन लखनऊ ऑफिस में , सभी कर्मचारी मिलते हैं, परिचय होता है, और फ़िर साहब नसीहत दे डालते हैं ईमानदारी का. पुराना टीम लीडर कर्मचारी कहता है, नया सोडा का बोतल है,  खुलेगा  तो, शोर तो करेगा ही. साहब, सुन लेते हैं, कहते हैं, आदत डाल लीजिये.
फिर शुरू होता है, वह रेड (छापामारी) , जिसपर फिल्म बानी है. मुखबिर खबर देता है, सामने नहीं आता.
सबसे बड़ी रेड होती है, दबंग एम् पी के घर पर. बाहुबली नेता हैं. यह रेड , कर्मचारियों पर जान से भी भारी बन आती है. घंटों नहीं, दिनों नहीं, हफ़्तों तक रेड चलती है. काफी ड्रामेबाज़ी के बाद, नोटों के बण्डल की , सोने के बिस्किटों की बाढ़ सी, आसमान और पाताल से निकल आती है. एमपी साहब और उनकी फॅमिली सकते में है. एमपी अपनी हर साम, दाम की कोशिश करता है पर बात सीएम और अंत में तो पीएम तक जाती है पर बनती नहीं. अफसर जीत जाता है. रेड रोकने की हर कोशिश नाक़ामयाब होती है.
अंत में, एमपी अपने लाखों समर्थकों को उकसाकर-भड़काकर , रेड टीम पर हथियार बंद हज़ारों लोगों के हुजूम से हमला होने लगता है. किले पर आ पहुँचती है एमपी की सेना. अब तो रेड टीम, चीटीयों की तरह मसल दी जायेगी. तभी, पटनायक साहब, सूझ बूझ दिखा कर अपनी पूरी टीम को किसी सुरक्षित रास्ते से  बाहर भगाने में कामयाब होते हैं. टीम में  महिलायें भी हैं,  ,दहशत में रेड किया था पर बहादुरी से. उन्हें सुरक्षित बचाना, पटनायक साहब की ज़िम्मेदारी थी, सो उन्होंने  निभाया ! तभी उनके टीम के अधिकारी, जो इनका मन ही मन और कई बार तो सब के सामने विरोध कर चुके थे ने देखा कि पटनायक साहब पूरी टीम तो सुरक्षित कर, खुद बलिदान देना चाहते थे, तो फिर खरबूजे ने खरबूजे को देख कर रंग बदल दिया. लीडरशिप इसे कहते हैं, जो सैक्रिफाइस करता है,  लोगों को लीड करता रहता है, उनका भरोसा और विश्वास जीतता जाता  उनको सुनता है, पर उनकी तरह विरोध नहीं करता, सिर्फ भरोसा दिलाता है. कर्त्तव्य और निष्ठां की सबल बातें संक्षेप  में, अति संक्षेप में कहता है और लीड करता रहता है. लक्ष्य के लिए सबको जाबांज़ बना देता है. पटनायक साहब का विरोध करने वाले कर्मचारी अब उनको छोड़ कर जाने को तैयार थे, वे अब उनके साथ ही मर-मिटने  को तैयार थे. इतना बड़ा परिवर्तन, दिल का ही नहीं, चरित्र का है. लीडर चरित्र बदलने का काम करता है, तिकड़म तो कोई भी सिखा सकता है. 

When you are in trenches with your team in their toughest fight, where stakes are quite high on you and equally high on the team and you take responsibility for all failures as part of that unwritten oath, you can call it accepting challenge too, you win over your team, and every hard-earned success creates leaders out of your team. 

Comments

Popular posts from this blog

असर संस्थान अग्रसर है; रिपोर्ट कम असर!

ANNUAL STATUS OF EDUCATION REPORT 2017यह रिपोर्ट सही है पर जिस बियॉन्ड बेसिक्स की तलाश ग्रामीण इलाकों में की गयी है, वह शहरी विकास की कसौटी पर तय की जा सकती है. ग्रामीण  इलाकों में, युवक पढ़ भी गया तो भी सिर्फ २% सरकारी नौकरी पाते हैं , बाकी बेरोज़गार या फिर काम चलाऊ आधी-अधूरी मज़दूरी नुमां प्राइवेट नौकरी ! अगर तरीके से खेती कर लें, बकरी, भेकड, सूअर, मुर्गी, पाल लें तो ज़्यादा सम्मान से जियेंगे. उनकी मज़बूरियों को समझें।  आर्मी के भर्ती में, हज़ारों पढ़े लिखे रेलम पेल में पिस जाते हैं. १००० में से ५ को नौकरी मिलती है, क्या करेंगे पढ़ कर?  असर संस्थान अग्रसर है, प्रगति पथ पर! 2017 का असर रिपोर्ट 14 से 18 वर्ष के बच्चों पर आधारित है, जिन्होंने प्रारंभिक शिच्छा पूर्ण कर ली है. असर 2017 सर्वेक्षण में पढ़ने तथा गणित  करने की बुनियादी क्षमता से आगे,अर्थात बियॉन्ड बेसिक्स डोमेन शामिल हैं . इसमें चार डोमेन शामिल है– गतिविधि , क्षमता, जागरुकता और आकांछाएँ .The survey for the Annual Status of Education Report for rural India in 2017 was carried out in 28 districts spread across 24 statesASER stands for…

राम की शक्ति पूजा!-LEADERSHIP LESSONS

सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ आधुनिक हिन्दी काव्य के प्रमुख स्तम्भ हैं। राम की शक्ति पूजा उनकी प्रमुख काव्य कृति है। निराला ने राम की शक्ति पूजा में पौराणिक कथानक लिखा है, परन्तु उसके माध्यम से अपने समकालीन समाज की संघर्ष की कहानी कही है। राम की शक्ति पूजा में एक ऐसे प्रसंग को अंकित किया गया है, जिसमें राम को अवतार न मानकर एक वीर पुरुष के रूप में देखा गया है,

राम  विजय पाने में तब तक समर्थ नहीं होते जब तक वे शक्ति की आराधना नहीं करते हैं।
"धिक् जीवन को जो पाता ही आया है विरोध,धिक् साधन जिसके लिए सदा ही किया शोध!" तप के अंतिम चरण में, विघ्न, असमर्थ कर देने वाले विघ्न. मन को उद्विग्न कर देने वाले विघ्न. षड़यंत्र , महा षड़यंत्र. परंतु राम को इसकी आदत थी, विरोध पाने की और उसके परे जाने की. शायद इसी कारण उन्हें "अवतार " कहते हैं. अवतार, अर्थात, वह, जिसने मानव जीवन के स्तर को cross कर लिया है. राम सोल्यूसन आर्किटेक्ट थे. पर सिर्फ सोल्यूसन आर्किटेक्ट साधन के बगैर कुछ भी नहीं कर सकता. साधन शक्ति के पास है. विजय उसकी है जिसके साथ शक्ति है.

जानकी! हाय उद्धार प्रिया का हो न सका, वह ए…

अवार्ड के भूखे !

कपिलशर्माकेशोमें, रणबीरकपूरनेकहा, "करण जोहरअवार्डकेभूखेहैं "! ग़लतक्याहै, सच तो सचहै, अवार्डकिसकोअच्छानहींलगता, चाहेआपकाज़मीर-ईमानमनहीमनधिक्काररहाहोपरआप