Skip to main content

Workplace Abuse को कहो, "इसकी माँ की!

कुछ स्टार्ट  उप के फाउंडर्स , managers "fuck" , "fucked "इत्यादि शब्द का इस्तेमाल ऐसे करते  है जैसे इसके बगैर उनकी  उत्पत्ति  पर प्रश्न चिन्ह लग जाएगा.
मैं इनसे पूछना चाहता हूँ कि बगैर वियाग्रा (वीमेन वियाग्रा भी अब उपलब्ध है) के आप ३ मिनट नहीं चल पाते, ८ और ९ इंच आपके लिए सपना है और दिन में ३० बार अपनी टीम, क्लाइंट्स के सामने, ऑफिस बॉय और महिलाओं , बच्चिओं के सामने, अपने से उम्र और अनुभव में काफी ज्यादा लोगिन के सामने आप "fuck " चालीसा के माध्यम से क्या बताना चाहते हैं?
 कि आपकी उत्पत्ति किसी विशेष प्रक्रिया से हुई है या फिर जो कुमार विश्वास कहते हैं प्रेम के बारे में, जब उनके मित्र और कवि सम्पत शरण जी प्रेम करने वालों का उपहास करते हैं. "जिनसे कुछ नहीं हो पाया होता है, वे ही ज्यादा "पुराण" बांचते हैं.

मैंने दोस्तों से सुना है जो स्टार्टअप में काम करते हैं या कर चुके हैं, की उनकी फाउंडर्स मीटिंग में "fuck " शब्द का प्रयोग टीम पर अपनी बोस्सिसिम साबित करने के लिए या फिर अग्रेशन दिखाने के लिए या फिर टीम के अंदर सफलता के लिए एक बलात्कारी प्रवृत्ति भरने के लिए ऐसा करते हैं. ये तो भाई खतरनाक और बेहद शर्मनाक दशा है.

आज मैंने एक सीनियर मैनेजर को उनके टीम मेंबर्स को यह कहते सुना, "यह फाइल क्यों नहीं भेजा , क्या इसपर अंडे दे रहे थे? सबसे शर्मनाक और दुखद बात यह है कि , ऐसे अपशब्द, अश्लील वाक्य सबके सामने किसी को कह दिए जाते हैं. यह मानवता पर सबसे बड़ा आघात है. बेहद असंवेदनशील और बेशर्म , आततायी managers .
इसी कंपनी में महिला फाउंडर fuck पुराण दिन में १० बार से ज्यादा पढ़ती हैं. यह सब शायद उनके घर की परम्परा हो, हमें तो यह ही लगता है कि भारत में आज भी कर्मचारी ग़ुलाम है. बेड़ियां पड़ी हैं उसके पैरों में, ऐसी क्या मज़बूरी है की वह सब कुछ  सह लेता है?

क्या आपके आस-पास भी employee abuse हो रहा है? अगर हाँ तो ठीक से नीचे तक चेक कर लें कहीं आप अपनी असलियत तो नहीं खो बैठे हैं?

abuse को कहो, "इसकी माँ की!

Comments

Popular posts from this blog

असर संस्थान अग्रसर है; रिपोर्ट कम असर!

ANNUAL STATUS OF EDUCATION REPORT 2017यह रिपोर्ट सही है पर जिस बियॉन्ड बेसिक्स की तलाश ग्रामीण इलाकों में की गयी है, वह शहरी विकास की कसौटी पर तय की जा सकती है. ग्रामीण  इलाकों में, युवक पढ़ भी गया तो भी सिर्फ २% सरकारी नौकरी पाते हैं , बाकी बेरोज़गार या फिर काम चलाऊ आधी-अधूरी मज़दूरी नुमां प्राइवेट नौकरी ! अगर तरीके से खेती कर लें, बकरी, भेकड, सूअर, मुर्गी, पाल लें तो ज़्यादा सम्मान से जियेंगे. उनकी मज़बूरियों को समझें।  आर्मी के भर्ती में, हज़ारों पढ़े लिखे रेलम पेल में पिस जाते हैं. १००० में से ५ को नौकरी मिलती है, क्या करेंगे पढ़ कर?  असर संस्थान अग्रसर है, प्रगति पथ पर! 2017 का असर रिपोर्ट 14 से 18 वर्ष के बच्चों पर आधारित है, जिन्होंने प्रारंभिक शिच्छा पूर्ण कर ली है. असर 2017 सर्वेक्षण में पढ़ने तथा गणित  करने की बुनियादी क्षमता से आगे,अर्थात बियॉन्ड बेसिक्स डोमेन शामिल हैं . इसमें चार डोमेन शामिल है– गतिविधि , क्षमता, जागरुकता और आकांछाएँ .The survey for the Annual Status of Education Report for rural India in 2017 was carried out in 28 districts spread across 24 statesASER stands for…

राम की शक्ति पूजा!-LEADERSHIP LESSONS

सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ आधुनिक हिन्दी काव्य के प्रमुख स्तम्भ हैं। राम की शक्ति पूजा उनकी प्रमुख काव्य कृति है। निराला ने राम की शक्ति पूजा में पौराणिक कथानक लिखा है, परन्तु उसके माध्यम से अपने समकालीन समाज की संघर्ष की कहानी कही है। राम की शक्ति पूजा में एक ऐसे प्रसंग को अंकित किया गया है, जिसमें राम को अवतार न मानकर एक वीर पुरुष के रूप में देखा गया है,

राम  विजय पाने में तब तक समर्थ नहीं होते जब तक वे शक्ति की आराधना नहीं करते हैं।
"धिक् जीवन को जो पाता ही आया है विरोध,धिक् साधन जिसके लिए सदा ही किया शोध!" तप के अंतिम चरण में, विघ्न, असमर्थ कर देने वाले विघ्न. मन को उद्विग्न कर देने वाले विघ्न. षड़यंत्र , महा षड़यंत्र. परंतु राम को इसकी आदत थी, विरोध पाने की और उसके परे जाने की. शायद इसी कारण उन्हें "अवतार " कहते हैं. अवतार, अर्थात, वह, जिसने मानव जीवन के स्तर को cross कर लिया है. राम सोल्यूसन आर्किटेक्ट थे. पर सिर्फ सोल्यूसन आर्किटेक्ट साधन के बगैर कुछ भी नहीं कर सकता. साधन शक्ति के पास है. विजय उसकी है जिसके साथ शक्ति है.

जानकी! हाय उद्धार प्रिया का हो न सका, वह ए…

अवार्ड के भूखे !

कपिलशर्माकेशोमें, रणबीरकपूरनेकहा, "करण जोहरअवार्डकेभूखेहैं "! ग़लतक्याहै, सच तो सचहै, अवार्डकिसकोअच्छानहींलगता, चाहेआपकाज़मीर-ईमानमनहीमनधिक्काररहाहोपरआप