Skip to main content

क्या कोई षड्यंत्र है? क्या जाति विशेष की कोई निश्चित प्रवृत्ति होती है?

क्या कोई षड्यंत्र है? क्या जाति विशेष की कोई निश्चित प्रवृत्ति होती है?
सामजिक-आर्थिक रूप से सफल लोगों को ही देख लेते हैं. क्या इनमें कोई विशेष गुण है जो इन्हे सफल बनाता है?
क्यों बंगाली और मलयाली नौकरियों में ज्यादा सफल हो जाते हैं? क्यों बनिये व्यापार में सफल होते से लगते हैं?
क्या उन्हें व्यापार करने के गूढ़ रहस्य मालूम हैं? या फिर सिर्फ व्यवहार-सरोकार के ये पुजारी हैं?
कैसे जानें इनमें ये गुण कैसे आते हैं? कैसे ये इन गुणों की बदौलत अपनी मंज़िल पाते हैं.
प्राइवेट नौकरियों को अगर देखें तो, इसकी शुरूआत टाटा और बिरला या बजाज ग्रुप से निकल कर आता है. इन कंपनियों में मजदूर वर्ग बिहार, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र से आया, तकनिकी काम के लिए, दक्षिण भारत और महाराष्ट्र का वर्ग जुड़ा. बंगाली ऑफिस के काम के लिए रखे गए. उन्हें कुछ अंग्रेजी आती थी और ये बड़े अफसरों के सामने बिलकुल मेमनों जैसा हाव-भाव रखते थे. ये उनके सहमति और असहमति दोनों से बराबर ही सहमति प्रकट करते थे. ये अपने विचार फुटबॉल, मुरी घोंटो , नक्सलबाड़ी, सिगरेट , कार्ल मार्क्स, इत्यादि तक सीमित रखते हैं.
इन्होंने सबसे पहले याद कर लिए था.. नौकरी मतलब, मुह पर ताला, विचार, विमर्श  घर पर. बॉस का पाद भी गीता का ज्ञान, ऑफिस में शांत, लगभग अदृश्य, अच्छी अंग्रेजी ड्राफ्टिंग, एकाउंट्स साफ़ और साधा. कानून के पुजारी। लेकिन जैसा की हर कुत्ते का दिन आता है, बंगाली बंधू भी पदोन्नति पा कर, एक दिन अफ़सर बनते हैं. सिगरेट का डब्बा अब इनकी आइडेंटिटी बनता है, फ़िएट कार आती है, नमस्कार दादा, दीदी, ऑफिसियल सम्बन्ध बोधक बन जाते हैं. धीरे -धीरे बंगाली भाषा लिंग्वा-फ़्रन्का बन जाती है. सारे क्लासिफाइड संवाद इसी भाषा में कुछ अन्य बंगाली अधिकारी, सहयोगियों के साथ होने लगते हैं. बंगाली बंधु कौम के बड़े पक्के होते हैं. द्रुत गति से आप इनके विभाग में बंगालियों की नियुक्ति होते देखेंगे. मधुमक्खी के छत्ते की तरह इनका विकास होता है. उदाहरण मैंने बंगालियों का लिया, इनके ही दक्षिण भारत के बंधू हैं..मलयाली. अद्भुत समानता है दोनों में; दोनों शौकीन कौम है. इनका कुत्ता, दारु, कार प्रेम एक सामान है. दोनों समाज उन्मुक्त है, साइड डिश दोनों को चाहिए, खाने और सोने में भी . दोनों कोस्टल एरियाज से हैं, दोनों मच्छी भक्त हैं.. दोनों समाज एडुकेटेड एंड क्वालिफाइड हैं, दोनों समाज में महिला मुक्त है, आर्थिक रूप से आत्म निर्भर है. संगीत -गायन और वादन दोनों के मीठे हैं. करैक्टर दोनों के ढीले हैं, परन्तु उनका समाज इसकी इजाजत देता है. यहां सब सहमति से होता है, कोई शोषण नहीं है. दोनों अपने लोगों को ही अपने साथ जोड़ते हैं, अगर यह क़ौम है तो यह फिर कम्युनल हैं.

जैसे लोमड़ी को चालाकी सीखनी नहीं पड़ती, वैसे ही इन्हे व्यावहारिक ज्ञान जन्मजात मिलता है. मलयाली बच्चे और बंगाली बच्चे एक साथ खेलते मिलेंगे. यही रिश्ता कॉलेज, फिर नौकरी तक चलता जाता है पर दोनों अपने कौम को ही सहयोग करेंगे. कॉलेज का प्लेसमेंट सेल का कम्पोजीशन किसी भी बिज़नेस स्कूल में देख लीजिये, आप वहाँ बंगाली और मलयाली बहुतायत में पायेंगे. इनका रिश्ता बंदरों और हिरणोँ जैसा है. बन्दर हिरणों के लिए पेड़ हिला कर फल गिराते हैं, दोनों एक दुसरे को शिकारी पशु या व्यक्ति से सतर्क करते हैं। परन्तु वंश वृद्धि तो यह अपनी ही करते हैं. जायज़ है.

आपके अगर कोई विचार हों तो अवश्य लिखे.
शुभ रात्रि!


Comments

Popular posts from this blog

असर संस्थान अग्रसर है; रिपोर्ट कम असर!

ANNUAL STATUS OF EDUCATION REPORT 2017यह रिपोर्ट सही है पर जिस बियॉन्ड बेसिक्स की तलाश ग्रामीण इलाकों में की गयी है, वह शहरी विकास की कसौटी पर तय की जा सकती है. ग्रामीण  इलाकों में, युवक पढ़ भी गया तो भी सिर्फ २% सरकारी नौकरी पाते हैं , बाकी बेरोज़गार या फिर काम चलाऊ आधी-अधूरी मज़दूरी नुमां प्राइवेट नौकरी ! अगर तरीके से खेती कर लें, बकरी, भेकड, सूअर, मुर्गी, पाल लें तो ज़्यादा सम्मान से जियेंगे. उनकी मज़बूरियों को समझें।  आर्मी के भर्ती में, हज़ारों पढ़े लिखे रेलम पेल में पिस जाते हैं. १००० में से ५ को नौकरी मिलती है, क्या करेंगे पढ़ कर?  असर संस्थान अग्रसर है, प्रगति पथ पर! 2017 का असर रिपोर्ट 14 से 18 वर्ष के बच्चों पर आधारित है, जिन्होंने प्रारंभिक शिच्छा पूर्ण कर ली है. असर 2017 सर्वेक्षण में पढ़ने तथा गणित  करने की बुनियादी क्षमता से आगे,अर्थात बियॉन्ड बेसिक्स डोमेन शामिल हैं . इसमें चार डोमेन शामिल है– गतिविधि , क्षमता, जागरुकता और आकांछाएँ .The survey for the Annual Status of Education Report for rural India in 2017 was carried out in 28 districts spread across 24 statesASER stands for…

राम की शक्ति पूजा!-LEADERSHIP LESSONS

सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ आधुनिक हिन्दी काव्य के प्रमुख स्तम्भ हैं। राम की शक्ति पूजा उनकी प्रमुख काव्य कृति है। निराला ने राम की शक्ति पूजा में पौराणिक कथानक लिखा है, परन्तु उसके माध्यम से अपने समकालीन समाज की संघर्ष की कहानी कही है। राम की शक्ति पूजा में एक ऐसे प्रसंग को अंकित किया गया है, जिसमें राम को अवतार न मानकर एक वीर पुरुष के रूप में देखा गया है,

राम  विजय पाने में तब तक समर्थ नहीं होते जब तक वे शक्ति की आराधना नहीं करते हैं।
"धिक् जीवन को जो पाता ही आया है विरोध,धिक् साधन जिसके लिए सदा ही किया शोध!" तप के अंतिम चरण में, विघ्न, असमर्थ कर देने वाले विघ्न. मन को उद्विग्न कर देने वाले विघ्न. षड़यंत्र , महा षड़यंत्र. परंतु राम को इसकी आदत थी, विरोध पाने की और उसके परे जाने की. शायद इसी कारण उन्हें "अवतार " कहते हैं. अवतार, अर्थात, वह, जिसने मानव जीवन के स्तर को cross कर लिया है. राम सोल्यूसन आर्किटेक्ट थे. पर सिर्फ सोल्यूसन आर्किटेक्ट साधन के बगैर कुछ भी नहीं कर सकता. साधन शक्ति के पास है. विजय उसकी है जिसके साथ शक्ति है.

जानकी! हाय उद्धार प्रिया का हो न सका, वह ए…

अवार्ड के भूखे !

कपिलशर्माकेशोमें, रणबीरकपूरनेकहा, "करण जोहरअवार्डकेभूखेहैं "! ग़लतक्याहै, सच तो सचहै, अवार्डकिसकोअच्छानहींलगता, चाहेआपकाज़मीर-ईमानमनहीमनधिक्काररहाहोपरआप